Search: For - Sustainable

5935 results found

क्या अमेरिका की नई रणनीति से अफ्रीका में चीन का प्रभाव कमज़ोर हो सकेगा?
Aug 18, 2022

क्या अमेरिका की नई रणनीति से अफ्रीका में चीन का प्रभाव कमज़ोर हो सकेगा?

नई अमेरिकी नीति को लेकर अफ्रीकी देशों को सावधान रहते हुए �

क्या अर्जेंटीना आर्थिक संकट से बच पाएगा?
Aug 05, 2022

क्या अर्जेंटीना आर्थिक संकट से बच पाएगा?

अर्जेंटीना के आर्थिक संकट की तरफ़ तुरंत राजनीतिक ध्यान द

क्या जनसंख्या के कारण जलवायु परिवर्तन हो रहा है: मिथक या हक़ीक़त?
Jul 19, 2022

क्या जनसंख्या के कारण जलवायु परिवर्तन हो रहा है: मिथक या हक़ीक़त?

क्या आबादी बढ़ने और कार्बन डाइऑक्साइड में वृद्धि के बीच �

क्या भारत की सिविल सर्विस (प्रशासनिक सेवा) अपना प्रभाव खो चुकी है?
Aug 17, 2022

क्या भारत की सिविल सर्विस (प्रशासनिक सेवा) अपना प्रभाव खो चुकी है?

मौज़ूदा सियासत के दौर में कोई भी सिविल सेवा सुधार तब तक बे

क्वांटम तंत्रज्ञान हे पर्यायी ऊर्जेचा आधार बनू शकते का?
Mar 12, 2024

क्वांटम तंत्रज्ञान हे पर्यायी ऊर्जेचा आधार बनू शकते का?

क्वांटम तंत्रज्ञान ऊर्जा निर्मितीचा एक व्यवहार्य स्त्र

ख़ास हेल्थ आइडेंटिफायर की शुरूआत: भारत, ताइवान और ऑस्ट्रेलिया के उदाहरण
Jul 29, 2023

ख़ास हेल्थ आइडेंटिफायर की शुरूआत: भारत, ताइवान और ऑस्ट्रेलिया के उदाहरण

तकनीक के जरिए स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच में सुधार किया जा स�

खाद्य सुरक्षा और पोषण के लिए फूड सिस्टम का दृष्टिकोण
Jun 16, 2023

खाद्य सुरक्षा और पोषण के लिए फूड सिस्टम का दृष्टिकोण

फ़िलहाल दुनिया में अल्प-पोषण में बढ़ोतरी के साथ-साथ ज़्यादा वज़न, मोटापे और ग़ैर-संक्रामक बीमारियों के प्रसार में इज़ाफ़ा दिखाई दे रहा है. खाद्य प्रणाली का दृष्टिकोण (खेत-ख

ग्रामीण भारताचे संपूर्ण विद्युतीकरण, पुढे काय?
Oct 22, 2020

ग्रामीण भारताचे संपूर्ण विद्युतीकरण, पुढे काय?

केवळ आकड्यांचा खेळ करून, ‘परवडणा-या विजेचा पुरवठा’ हे स्वप्न पूर्ण होऊ शकत नाही. त्यासाठी ग्राहक समाधानी आहे किंवा नाही, हे पाहणे महत्त्वाचे आहे.

ग्रीन ट्रेड एज़ेंडे: अधीरता से इसकी संभावनाएं ख़तरे में पड़ सकती हैं
Jul 29, 2023

ग्रीन ट्रेड एज़ेंडे: अधीरता से इसकी संभावनाएं ख़तरे में पड़ सकती हैं

जलवायु के अनुकूल व्यापार नियमों के लिए एक समान दृष्टिकोण

ग्रीन हाइड्रोजन: दूर की कौड़ी या सचमुच का बदलाव?
Jun 13, 2022

ग्रीन हाइड्रोजन: दूर की कौड़ी या सचमुच का बदलाव?

2070 तक नेट-ज़ीरो का लक्ष्य हासिल करने के लिए भारत के हाइड्र�

ग्लोबलायझेशनकडून स्लोबलायझेशनकडे…
Jun 02, 2021

ग्लोबलायझेशनकडून स्लोबलायझेशनकडे…

जागतिकीकरणापासून पूर्णपणे फारकत घ्यायची असे नाही, पण देशांतर्गत सक्षमीकरण तेवढंच महत्वपूर्ण आहे याची जाणीव असणे म्हणजेच ‘स्लोबलायझेशन’.

चीन-ताइवान संघर्ष और भारत की चुप्पी, क्या है वजह?
Aug 12, 2022

चीन-ताइवान संघर्ष और भारत की चुप्पी, क्या है वजह?

अमेरिकी कांग्रेस की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान की यात्रा को लेकर भारत ने बहुत संभल कर चल रहा है. भारत की ओर से इस मामले पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. भारत ने पूरे मामले म�

चीनमधील ऊर्जासंकटांची दिशा आणि दशा
Oct 12, 2021

चीनमधील ऊर्जासंकटांची दिशा आणि दशा

कोळशाच्या तुटवड्यामुळे चीनमध्ये सध्या सुरू असलेले हे ऊ�

जमिनीच्या ऱ्हासादरम्यान तटस्थीकरण आणि महिलांची भूमिका काय असावी?
Jun 11, 2024

जमिनीच्या ऱ्हासादरम्यान तटस्थीकरण आणि महिलांची भूमिका काय असावी?

सुपीक जमिनीच्या गुणवत्तेच्या ऱ्हासाचा लिंगनिरपेक्ष प्�

जल व्यवस्थापनात महिलांचे योगदान
Mar 27, 2024

जल व्यवस्थापनात महिलांचे योगदान

भारताला पाण्याच्या सर्वांगीण विकासाच्या गुंतागुंतीचा �

जलवायु परिवर्तन: भारत के ग्रीन ग्रोथ (हरित विकास) के लिए ज़रूरी चार ‘C’
Jul 30, 2023

जलवायु परिवर्तन: भारत के ग्रीन ग्रोथ (हरित विकास) के लिए ज़रूरी चार ‘C’

प्रतिबद्धता, सह-लाभ, लागत और पूंजी भारत के अक्षय ऊर्जा क्ष

जलवायु संबंधित संवेदनशीलता, खाद्य सुरक्षा और लचीला विकास!
Jul 31, 2023

जलवायु संबंधित संवेदनशीलता, खाद्य सुरक्षा और लचीला विकास!

दुनिया के जोख़िमग्रस्त क्षेत्रों में जलवायु परिवर्तन स�

जलवायु सरलता: एक आधुनिक चुनौती
Sep 24, 2022

जलवायु सरलता: एक आधुनिक चुनौती

जब जलवायु संरक्षण की बात आती है तो अधिक यथार्थवादी दृष्ट�

जलवायु से जुड़ी पटकथा, और उसके पीछे छिपे राज़?
Aug 05, 2023

जलवायु से जुड़ी पटकथा, और उसके पीछे छिपे राज़?

विकासशील देश कार्बन से छुटकारा दिलाने की नीतियों को लागू

जानिए, मालदीव को किस प्रकार प्रभावित कर सकता है श्रीलंका में छाया संकट!
Aug 12, 2022

जानिए, मालदीव को किस प्रकार प्रभावित कर सकता है श्रीलंका में छाया संकट!

श्रीलंकाई संकट से मालदीव को जो एक बात सीखनी चाहिए, वह यह ह�

जी-२० हवामान परिषद ही भारताला संधी
Oct 21, 2020

जी-२० हवामान परिषद ही भारताला संधी

कोविड १९ मुळे अर्थव्यवस्थेवर कोसळलेले संकट दूर करताना हवामान बदलाकडे दुर्लक्ष झाल्यास ते अधिक भयावह असेल. त्यामुळे शाश्वत मानवी विकासाचे गणित कोलमडेल.

टिकाऊ मोबिलिटी के लिए आख़िरी मील तक इलेक्ट्रिफिकेशन का निर्माण
Nov 03, 2023

टिकाऊ मोबिलिटी के लिए आख़िरी मील तक इलेक्ट्रिफिकेशन का निर्माण

इलेक्ट्रिफिकेशन के लिए ज़ोर हमें अलग-अलग मोर्चों में आर्

ट्विन कनेक्शन: देशांमधील 'सिस्टर-सिटी' संबंधांना प्रोत्साहन
May 03, 2024

ट्विन कनेक्शन: देशांमधील 'सिस्टर-सिटी' संबंधांना प्रोत्साहन

जागतिक वातावरणातील बदल, साथीने येणारे रोगराईचे प्रादुर�

डिप्लोमसीमध्ये महिलांची भूमिका!
Jul 02, 2024

डिप्लोमसीमध्ये महिलांची भूमिका!

स्त्रीवादी परराष्ट्र धोरणाचा अवलंब करून आणि डिप्लोमसीत

ताइवान मुद्दे पर अपनी शक्ति का अनुचित प्रदर्शन कर गलती कर रहा है चीन?
Aug 13, 2022

ताइवान मुद्दे पर अपनी शक्ति का अनुचित प्रदर्शन कर गलती कर रहा है चीन?

अगर चीन शक्ति प्रदर्शन के जरिए ताइवान का स्टेटस बदलता है तो हिंद प्रशांत पर तो इसका प्रभाव होगा ही, उससे बड़ा प्रभाव इसका ग्लोबल ऑर्डर पर पड़ेगा.

दक्षिण एशिया में सैलाब का संकट: कुछ अनजाने, अनसुने क़िस्से
Jul 29, 2023

दक्षिण एशिया में सैलाब का संकट: कुछ अनजाने, अनसुने क़िस्से

बाढ़ के ख़तरों में घिरे ज़्यादातर क्षेत्र रिहाइश के लिहा

दक्षिण कोरियाचे लक्ष आता आफ्रिकेवर
Jun 21, 2024

दक्षिण कोरियाचे लक्ष आता आफ्रिकेवर

दक्षिण कोरिया आफ्रिकेत आपले अस्तित्व वाढवण्याचा प्रयत्

दुष्काळ आणि तूट : तग धरण्यासाठी मजबूत भागीदारी
Jun 13, 2024

दुष्काळ आणि तूट : तग धरण्यासाठी मजबूत भागीदारी

दुष्काळ पूर्णपणे थांबवणे हे आव्हान असले तरी, तंत्रज्ञान�

देश की स्वाधीनता के 75 वर्ष: बेहतर भविष्य पर नज़र!
Aug 16, 2022

देश की स्वाधीनता के 75 वर्ष: बेहतर भविष्य पर नज़र!

भारत को सही मायनों में स्वतंत्र होने के लिए व्यवस्थागत प�

देश: महिला श्रमशक्ति और ई-श्रम पोर्टल – एक अचानक सी उभरती प्रवृत्ति का उदय!
Jul 31, 2023

देश: महिला श्रमशक्ति और ई-श्रम पोर्टल – एक अचानक सी उभरती प्रवृत्ति का उदय!

अनपेक्षित रूप से, जैसा की सबसे पहले अपेक्षित था, पुरुषों क

नव्या शैक्षणिक धोरणाची दिशा
Aug 21, 2020

नव्या शैक्षणिक धोरणाची दिशा

नवे शैक्षणिक धोरण आत्ताच्या समस्या सोडवण्याचा प्रयत्न करत असले तरी, दशकाच्या अखेरीपर्यंत तरी ते अंमलबजावणीच्या टप्प्यात पोहचेल का, याविषयी शंका वाटते.